RTO क्या है? RTO Full Form In Hindi ?

[ RTO  क्या है? RTO Full Form In Hindi ]


हेलो दोस्तों आज का हमारा पोस्ट बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि दोस्तों आप सभी जानते हैं कि आज के समय में हर किसी के पास दो पहिया चार पहिया गाड़ी है । अगर अपके पास कोई भी Vehicle है तो आप आरटीओ के चक्कर जरूर लगाएं होंगे।


दोस्तों यदि आपके पास कोई भी Vehicle नहीं है तो आगे चलकर जब भी आप कोई  नया व्हीकल  लेंगे तो आपको आरटीओ ऑफिस जरूर जाना होगा क्योंकि आपने कभी सोचा है कि RTO क्या होता है RTO Office में क्या कार्य होते हैं और Vehicle Owner RTO Office में क्यों जाते हैं RTO का फुल फॉर्म क्या है।


दोस्तों यह सब जानकारी आपको आज के में मिल जाएंगे अगर आपको RTO के बारे में कोई जानकारी नहीं है तो आप मेरे इस पोस्ट को जरूर पढ़ें आपको इसमें RTO से जुड़ी सभी जानकारी मिल जाएगे।


RTO ka Full Form kya Hota Hai ?


दोस्तों RTO का Full Form-  Regional Transport Office होता है आरटीओ को हिंदी में " क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय" भी कहते हैं।


दोस्तों सभी क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय भारत सरकार के सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अधीन कार्य करते हैं क्योंकि वाहनों से जुड़ी हुई सभी जानकारी प्रमुख कार्य RTO में ही किए जाते हैं और किसी भी परिवहन की जानकारी आपको RTO Office से ही मिल सकता है।


दोस्तों अगर किसी भी गाड़ी का एक्सीडेंट हो जाता है तो गाड़ी का पता लगाने के लिए पुलिस सबसे पहले RTO ऑफिस में फोन करते हैं और वहां से गाड़ी की सारी इनफार्मेशन निकाल लेते हैं।


RTO क्या है?


दोस्तों RTO इसे हिंदी में क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय करते हैं यह भारत सरकार के सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अधिक काम करते हैं क्योंकि भारत के हर एक राज्य के लगभग सभी शहरों में आरटीओ की स्थापना की गई है क्योंकि यह किसी क्षेत्र में उपलब्ध Regional Transport Office ही क्षेत्र में ड्राइविंग लाइसेंस जारी करते हैं ।


या नए परिवहन का पंजीकरण करते हैं वाहनों को Road Tex ,Road Fond के रूप में वाहन उत्पाद शुल्क का संग्रह करते हैं और इसके अलावा भी RTO की जिम्मेदारी वाहनों के  बीमा का निरीक्षण करने और प्रदूषण परीक्षण करने के होते हैं।


rto-kya-hai-rto-full-form-in-hindi


दोस्तों किसी क्षेत्र परिवहन कार्यालय में जो भी कार्य होते हैं उन सभी का RTO Datebess तैयार करता है RTO Datebess के आधार पर ही सरकार को यह पता चलता है कि किस क्षेत्र में कितने रजिस्ट्रेशन Vehicle है और कितने Driving Licence है कितने वाहनों ने Tex जमा किया है ओर कितनो ने नहीं इत्यादि यह सभी जानकारी RTO Datebess से ही पता चलता है।


दोस्तों RTO का Full Form क्या है और RTO क्या है यह सभी जानकारी तो आपको मिल गई है अब हम बात करेंगे  कि RTO के क्या- क्या कार्य होते  हैं।


RTO के क्या कार्य है?


दोस्तो अगर कोई भी व्यक्ति नया वाहन खरीदा है तो उसे RTO Office  जाकर उस वाहन के कुछ जरूरी कागजात बनवाने होते हैं जो RTO और RTA के महत्वपूर्ण तथ्य है। और इसके कार्य निम्नलिखित है जैसे कि:-


1).  Insurance  ( बीमा )।

2). Driving Licence ( ड्राइविंग लाइसेंस )।

3).  Pollution Test ( प्रदूषण टेस्ट )

4).  Vehicle Registration ( वाहन पंजीकरण )


1). Insurance:-


दोस्तो RTO के द्वारा किसी भी वाहन का बीमा प्रदान  किया जा सकता है अगर आप अपने वाहन का बीमा करवाना चाहते हैं तो दोस्तों आपको RTO  कार्यालय जाना होगा इसके अलावा Road Test गाड़ियों के फिटनेस इत्यादि सभी काम RTO के अंतर्गत  किए जाते हैं।


2). Pollution Test :-


दोस्तो RTO के द्वारा गाड़ियों का Pollution Lebal Test किया जाता है और अगर कोई वाहन ज्यादा प्रदूषण करता है तो RTO उसका लाइसेंस कैंसिल कर देता है ।


3). Vehical Registration :-


दोस्तों Registration Number प्रत्येक वाहन मालिक के लिए अनिवार्य होता है क्योंकि यह बिना नंबर के वाहन चलाना कानूनी अपराध माना जाता है और RTO Office में नए वाहनों के Registration कराए जाते हैं और गाड़ी को नया नंबर दिया जाता है 


4). Driving Licence :-


दोस्तों अब बात करते हैं Driving Licence की तो RTO एक Datebess को नियंत्रण करता है जिसमें वाहन और ड्राइवर से संबंधित जानकारी होते हैं दोस्तो Driving Licence देना RTO का काम होता है और RTO कुछ Driving Test लेने के बाद वाहन धारक को Driving Licence प्रदान करते है।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.